Nepotism की सबसे बड़ी मिसाल Abhishek Bachchan ने अपने पिता को लेकर कर दिया एक चौंका देने वाला बयान |

Abhishek Bachchan ने हाल ही में एक इंटरव्यू दिया है जो काफी वायरल हो रहा है जिसमे उन्होंने Nepotism पर बात करते हुए बताया है की उनके पिता  सुपर स्टार Amitabh Bachchan जो की इंडस्ट्री में इतने सालों से कायम है उन्होंने आज तक Abhishek Bachchan के लिए एक कॉल नहीं किया किसी भी प्रोड्यूसर को ये कहने के लिए की तुम अपनी फिल्म में मेरे बेटे को कास्ट करदो |

यानी की कुल मिलाकर Abhishek Bachchan ने यह कहने की कोशिश की है की एक सुपर स्टार के बेटे होने का उनको कोई फायदा नहीं हुआ है , अभिषेक बच्चन की यह बात हज़म करना थोडा मुश्किल है .

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योकि हम सबने देखा है की इयर 2000 में अभिषेक बच्चन ने डेब्यू किया फिल्म इंडस्ट्री में इसमें उन्होंने कुछ फिल्मे अच्छी की तो बहुत सारी फिल्मे बेकार भी दी हैं इसके बावजूद आज वो इंडस्ट्री में 20 साल से हैं .

जबकि इंडस्ट्री का रूल यह कहता है की आपकी मार्केट खराब आपकी फिल्म फ्लॉप तो आप फिल्म से आउट कोई आपको फिल्मों में  कास्ट ही नहीं करेगा और अगर कास्ट करेगा तो भी मल्टी स्टारर फिल्म में कास्ट करेगा आप सपोर्टिंग रोल करोगे या फिर एक छोटा सा रोल आपको मिल जायेगा .

अभिषेक बच्चा की जगह कोई और एक्टर होता या आउटसाइडर होता तो शायद वो अब तक कबका बॉलीवुड इंडस्ट्री से आउट हो चूका होता बर्बाद हो गया होता , लेकिन अभिषेक बच्चन आज भी फिल्मे कर रहे हैं वेब सीरीज कर रहे हैं .

इसके पीछे कही न कही उनके पिता का नाम तो है ही, रही बात Abhishek Bachchan के इस दावे की उनके पिता ने कभी भी उन्हें कोई फिल्म दिलवाने के लिए किसी प्रोड्यूसर को कॉल नहीं किया तो आपको एक इनफार्मेशन बता दें की इयर 2004 में ऐसी बहुत सी खबरे आई थी की बोनी कपूर अपनी फिल्म में अमिताभ बच्चन को कास्ट करना चाहते थे .

कई महीनो तक अमिताभ बच्चन ने बोनी कपूर को इस फिल्म के लिए होल्ड रखा, इस फिल्म के लिए हाँ ही नहीं करते और बोनी कपूर भी इस बात पर अड़ गए थे की मुझे इस फिल्म में चाहिए तो अमिताभ बच्चन ही चाहिए .

तकरीबन 1 साल बाद अमिताभ बच्चन ने बोनी कपूर को हाँ कर दिया इस शर्त पर की ये फिल्म तो मैं तुम्हारे साथ कर लूँगा लेकिन अगली फिल्म जो तुम करने वाले हो उसमे मेरे बेटे Abhishek Bachchan को कास्ट करोगे .

तो जो फिल्म बोनी कपूर ने Amitabh Bachchan को दी थी वो फिल्म थी क्यों हो गया ना और जो शर्त के मुताबिक जो फिल्म Abhishek Bachchan को दिलवाई थी वो फिल्म थी रन, ये दोनों फिल्मे 2004 में आई थी जिसके प्रोड्यूसर बोनी कपूर थे .

इसके अलावा भी अगर बात करे धूम सीरीज की तो धूम फिल्म में पहली इन्सटोल्मेंट में जॉन अब्राहम थे दूसरी में जॉन अब्राहम को रिप्लेस करके हृतिक रोशन को लिया गया और तीसरी में हृतिक को रिप्लेस करके आमिर खान को लिया लेकिन Abhishek Bachchan वाला रोल और उदय चोपड़ा वाला रोल , उस रोल को चेंज करने की किसी की भी हिम्मत नहीं हुई .

यह एक उदाहरण है नेपोटिस्म का, इस बात से साफ़ होता है की Abhishek Bachchan का यह कहना की उनके पिता ने उन्हें अब तक कही रेकामेंड नहीं किया तो इस तरह की खबरें नहीं आती और वो इतने साल इस इंडस्ट्री में नहीं टिक पाते क्योंकि यहाँ का रूल यही है की आपकी एक फिल्म खराब तो आप इंडस्ट्री से आउट.

दूसरी बात जो अभिषेक बच्चन ने कही की मेरे पिता ने कभी भी मेरे लिए कभी भी किसी प्रोड्यूसर को फोन नहीं किया बल्कि मैंने अपने पिता के लिए फिल्म प्रोड्यूस की तो सबसे बड़ी बात की Abhishek Bachchan जो की प्रोड्यूसर बन रहे थे नए नए प्रोड्यूसर बन रहे थे उनको Amitabh Bachchan इस लिए क्योकि वो उनके पिता थे और उन्हें फीस नहीं देनी थी .

यह साफ़ सी बात है की अगर कोई नया प्रोड्यूसर आता है इंडस्ट्री में और आते ही वो अमिताभ बच्चन को कास्ट करना चाहता है तो उसे एंडलेस मीटिंग्स से एंडलेस रिजेक्शनस से गुजरना पड़ता .

तो इसीलिए इस बात को नकारा नहीं जा सकता है की इस इंडस्ट्री में वही टिक सकता है जो अपने टैलेंट को प्रूफ करता है और ये बात भी गलत नहीं है की इस इंडस्ट्री में कुछ लोगो ने नेपोटिस्म के सहारे अपना काम चलाया है .

Leave a Reply

Your email address will not be published.